Nila Nila Va (Moon Moon, Come)

நிலா நிலா வா

 

நிலா நிலா வா வா!

நில்லாமல் ஓடி  வா!!

மலை மேல் ஏறி வா!

மல்லிகைப்பூ கொண்டு வா!!

நிலா நிலா வா வா!!

Shakti the Elephant

Between the foliage and the speckled spiders,

Between the tree trunk and the tree,

Lived a beautiful woodpecker,

And a tiny bumblebee.

 

The bumblebee  had a best friend. His name was Shakti.

Shakti was a baby elephant, sprightly and free.

He loved foliage, roots, leaves, shoots and the bark of the banana tree.

 

The woodpecker was friends with both of them

Shakti and the bee,

The elephant, the woodpecker and the bumblebee,

Made a merry group of three.

[On a bright morning, Shakti went about his day as usual. He was carrying logs, rice grains and everything else his friend Ravi had asked him to carry. In return, he received a pat on his back. He knew he would be treated to a hearty meal of bananas later.]

As Shakti approached the riverbank,

Three men began to flee

One man was in a camouflage

The same colour as the bark

Of his beloved banana tree.

Shakti caught on easily

They were after his ivory

With blunt force they cut his tendons, and then his trunk

The blood in his body emptied out, fiercely.

 

In that fleeting moment Shakti knew

That his dreams would remain a fantasy

He would never become the leader of his pack

That would never be his reality.

 

In the morning, his best friends found him

Spread eagled, near the bark of his favourite tree

But the poachers who had killed him

Could not retrieve his ivory.

 

Shakti plunged his teeth deep into the soil

While writhing in agony

The poachers did not get

Their coveted ivory.

 

Putu and Pipi

পুটু আর পিপি 

শুভ্র বন্দ্যোপাধ্যায় 

 

পিঁপড়েরা থাকে সব দল বেঁধে চাকে 

বড় ফ্ল্যাট ছোট ফ্ল্যাট মাটি থাকে থাকে 

 

একদিন দেখা গেল হাইওয়ের ধারে 

যেখানে নতুন সব বাড়ি সারে সারে 

 

সেখানে সকাল বেলা কী কাণ্ড সব 

লক্ষ লক্ষ পিঁপড়ে এসে করে কলরব 

 

সকলেই কথা বলছে দাঁড়ে দাঁড়া দিয়ে 

কেউবা এসেছে মুখে ছেঁড়া পাতা নিয়ে 

 

সব গাড়ি থেমে গেছে সব লোকজন 

কথা বলছে চুপিচুপি কী হয় কখন 

 

কেন এত পিঁপড়ে এল? কী বলতে চায়? 

 এতক্ষণ লোকেদের থেমে থাকা দায় 

 

এদিকে ততক্ষণে আরও পিঁপড়ে এসে 

দখল নিয়েছে সব রাস্তা গেছে ফেঁসে 

 

সব রাস্তা সব গলি পিঁপড়ে থই থই 

সমস্ত শহর জুড়ে মস্ত হই হই 

 

কেউ করে টেলিফোন কেউ বা চেঁচায় 

কাকেদের দল গাছে বসে মুখ খেঁচায় 

 

এমন সময় শুধু ছোট্ট একটা মেয়ে 

পুটু তার নাম, সে মাছু ভাতু খেয়ে 

 

ডেকে আনল পিপিকে তার ঘরের ভিতর  

পিপি জানে গাছ পালা পোকাদের ঘর 

পিপি শুধু বলতে পারে পিঁপড়ের খবর

 

খুব রেগে গেছে পুটু খুব রেগে গেছে 

কেন না পিঁপড়ের জন্য খেলা থেমে গেছে 

 

পিপি জানতো না কিছু কাজে ডুবে থেকে 

পুটুর ডাকেতে গেল কাজ সব কেটে 

 

রাস্তার ধারেতে গিয়ে দেখে পিপি পুটু 

শুধুই পিঁপড়ের দল চলে গুটু গুটু 

 

মাথায় হাত পিপি পুটু কী হয় কী হয় 

কেন এত পিঁপড়ে এল কী বা করতে হয় 

 

পিপি খুললো কম্পিউটার, পিপি দেখল ছবি 

পিঁপড়েদের ঘর বাড়ি সুসজ্জিত সবই 

 

একটা বাড়ি করতে গেলে কত বাড়ি ভাঙে 

জানে কি মানুষরূপী ওরাং ওটাঙে 

 

তাই বুঝি সব পিঁপড়ে রাস্তায় নেমেছে 

কেড়ে নেবে ঘরবাড়ি যা কিছু ভেঙেছে 

Aanai Aanai (Elephant Elephant)

ஆனை ஆனை

 

ஆனை ஆனை அரசர் ஆனை!

அரசனும் அரசியும் ஏறும் ஆனை!!

கட்டிக்கரும்பை முறிக்கும் ஆனை!

காவேரி நீரை கலக்கும் ஆனை!

கலக்கி கலக்கி குடிக்கும் ஆனை!!

குட்டி ஆனைக்கி கொம்பு முளைச்சிதாம்!

பட்டணம் போக எல்லோரும் வாங்க!!

Kaiveeshamma kaiveeshi (To swing hands)

கை வீசு

 

கை வீசம்மா கை வீசு!

கடைக்கு போகலாம் கை வீசு!!

மிட்டாய் வாங்கலாம் கை வீசு!

மெதுவாய் தின்னலாம் கை வீசு!!

Ēkākiniyuṭe manaṁ (In solitude)

ഏകാകിനിയുടെ മൗനം 

 

സ്വപ്നങ്ങൾ വിതുമ്പുമീ 

സായം സന്ധ്യയി

ലേകയായ് നിശ്ശബ്ദയായ് 

അണയും പൈങ്കിളി 

പറയൂ നിൻ ദുഃഖഗാഥ 

കേൾക്കട്ടെ ഞാനീ ശപ്ത

ജീവിത ത്തിരക്കിനിടയിലും 

 

കരഞ്ഞുകലങ്ങിയ 

മിഴിയും മനസ്സുമായ് 

ദുഃഖ തുരുത്തിലേകയായ് 

തേങ്ങുമെൻ ഹൃദയത്തുടിപ്പുകൾ 

തപ്ത നൊമ്പര നിശ്വാസങ്ങൾ  

 

ഇടറും നിമേഷങ്ങൾ 

വയസ്സൻ നാഗം പോലെ 

ഇഴയും ദിവസങ്ങൾ 

വേദന ചുരത്തുന്നു 

വാക്കുകൾ വിഷമയമേറിയ 

കൂരമ്പുകൾ തറച്ചു തളരുന്നു  

ഹൃത്തടം പിളരുന്നു 

 

തേങ്ങുമീ ഹൃദന്തത്തിൽ 

പൊള്ളുന്ന തീ നോവുകൾ 

ആരോടു ചൊല്ലട്ടെ ഞാൻ 

തുടിക്കും മനസ്സുമായ് 

പറയാം വരിക നീ 

സ്വാന്തനം തൂവുന്ന ഹൃത്തുമായ് 

 

പക്ഷേ വാക്കുകൾ കൺഠ

നാളത്തിൽ ദുഃഖമായുറയുന്നു 

തേങ്ങലായ് നിറയുന്നു 

വേദന വിതുമ്പുന്നു 

 

ധാരയായ് പൊഴിയുമീ 

മിഴിനീരിൻറെ പ്രളയത്തിൽ 

വേദന അലിയട്ടെ 

ആശ്വാസം കൊള്ളട്ടെ ഞാൻ 

 

മോഹങ്ങൾ മരിക്കുമീ 

മൂകമാംഇരുളിൽ ഞാൻ 

ഏകയായ് മരുവുമ്പോൾ 

തേടുന്നു മാത്രകളിൽ 

ശാന്തിതൻ തീരങ്ങളെ 

 

കാലത്തിൻ രഥചക്ര

ക്കീഴിലായമരുന്നു 

നിമിഷദലങ്ങളും 

സംവത്സരങ്ങളും 

എങ്കിലുംഹൃദയത്തിൻ 

ഉണങ്ങാമുറിവിൽ 

നിന്നൊഴികിനിറയുന്നു ചുടു 

നിണത്തിനരുവിഎൻ 

ജീവിതവീഥിയാകെ 

 

മൊഴിയൂ പൈങ്കിളീ നിൻ 

മൊഴിയാൻ കഴിയാത്ത 

വേദനയെന്തു ചൊല്ലു 

 

നിൻ ഭാഷ എനിക്കിന്നു 

അത്രമേൽ പരിചിതം 

വിതുമ്പും ഹൃദയത്തിൻ 

ഭാഷക്കെന്നുമെന്നും 

ഭാവമതൊന്നേയുള്ളൂ 

 

ജാൻസി പൊറിഞ്ചു 

 

Mendhak Aur Machhli (The frog and the fish)

मेंढक और मछली 

 

सुनो अनोखी एक कहानी

जिसका मुख्य पात्र हैपानी

एक बार मेंढक और मछली

ने आपस में चर्चा कर ली

मछली बोली, सुनो ऐ मेंढक

देखो झीलों से सागर तक

तुमने कितना गंद मचाया

कीचड़ सा पानी है बनाया

मेंढक बोला, मछली बहना

मानो तुम मेरा यह कहना

इसमें मेरा दोष नहीं है

गुनहगार दूजा कोई है

वह जिसको कहते हम ज्ञानी

सबसे बुद्धिमान है प्राणी

बात ज़रा सी समझ न पाया

पृथ्वी को जिसने नहलाया

उस पानी का रखा न ध्यान

सूख रहे खेत खलिहान

मछली को यह बात न भाई

नर से कहा, ध्यान दो भाई!

पढ़े लिखे हो, समझदार हो

क्यों रखते नहीं साफ़ सफ़ाई?

पानी की हर बूँद बचाओ

वृक्ष लगाओ, बाग़ सजाओ

झीलें नदियाँ साफ़ कराओ

हरियाली, ख़ुशहाली लाओ

बूँद बूँद से भरकर सागर

पानी का अमृत बरसाओ